Deepawli 2016 shubh muhurat diwali ke khasa Upaay

दीपावली पर 20 रूपए खर्च करे और रहेंगी लक्ष्मी आप के घर में

दीपावली पर 20 रूपए खर्च करे और रहेंगी लक्ष्मी आप के घर में

Deepawli 2016 shubh muhurat diwali ke khasa Upaay

रविवार, 30 अक्तूबर
ये हैं दीपावली के शुभ मुहूर्त, जानिए कब करें मां लक्ष्मी पूजन

ज्योतिषाचार्य पंडित सुरेश शास्त्री के अनुसार प्रदोष काल में लक्ष्मी पूजन को श्रेष्ठ माना गया है। इस दिन 5.42 से 8.17 बजे तक प्रदोष काल रहेगा। इसमें लक्ष्मी पूजन किया जा सकता है।

चौघड़िया के हिसाब से लक्ष्मी पूजन का मुहूर्त
पंडित ब्रजमोहन शर्मा के अनुसार कुछ लोग चौघड़िया मुहूर्त के हिसाब से लक्ष्मी पूजन करते हैं। इसमें भी शुभ, लाभ, अमृत एवं चर के चौघडिय़ा में लक्ष्मी पूजन अच्छा माना गया है, जो लोग चौघड़िया से लक्ष्मी पूजन करना चाहते हैं वे शुभ, अमृत व चर के सायं 5.42 से रात्रि 10.34 बजे तक तथा लाभ का चौघडिय़ा मध्यरात्रि बाद 1.48 से 3.25 बजे तक पूजन कर सकते हैं। शुभ का चौघड़िया अंतरात 5.02 से प्रात: 6.40 बजे तक रहेगा।

शुभ लग्न में पूजन का मुहूर्त
दिवाली पूजन का चौघडिय़ा एवं प्रदोष काल के साथ शुभ लग्न का भी काफी महत्व है। इस बार वृष लग्न सायं 6.37 से 8.34 बजे तक, सिंह लग्न मध्यरात्रि बाद 1.07 बजे से 3.23 बजे तक लक्ष्मी पूजन किया सकता है।

...

दीपावली के खास उपा
दीवाली पर महालक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए आप क्या नही करते और उनका आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए लक्ष्मी पूजन हर घर में होता है। इसके अतिरिक्त कुछ ऐसी उपाय हैं जो महालक्ष्मी को बेहद प्रिय हैं। जिस घर में यह चीजें होती हैं वहां देवी लक्ष्मी साक्षात स्वरूप में वास करती हैं। तो उम्र भर लक्ष्मी को अपने घर में रखने के लिए दीपावली पर करें 20 रूपए का सामान घर ले आएं –

धनतेरस और दिवाली के दिन नमक (लुन) का पैकेट खरीद कर घर लाएं और उसे खाना बनाने में उपयोग करें इससे सारा साल लक्ष्मी कृपा बनी रहती है।अपने मकानों में दिवाली के रोज नमक के पानी का पोंछा लगाने से गरीबी दूर होती है और लक्ष्मी का आगमन होता हैं । इसके अतिरिक्त घर के उत्तर पूर्व कोने में थोड़ा सा नमक कटोरी अथवा डिबिया में डालकर भी रख सकते हैं। इससे नकारात्मक उर्जा खत्म होगी और धनागमन के साधन बनने लगेंगे। आपके व्यवसाय में प्रगति बनने लगेगी |

* धनतेरस के दिन साबुत धनिया खरीदें,और इसे दीपावली की रात लक्ष्मी जी के पूजन करते समय सामने साबुत धनिया रखे रहने दें। अगले दिन प्रातः साबुत धनिए को गमले या जमीन में बो दें। ऐसी मान्यता है कि अगर साबुत धनिए का हरा-भरा स्वस्थ पौधा निकले तो आर्थिक स्थिति सुदृढ़ रहती है। अगर धनिए का पौधा पतला है तो सामान्य आय होती है। पीला व बीमार पौधा निकले या पौधा नहीं निकले तो आर्थिक परेशानियां आती हैं। व्यवसाय में नुकसान होने किआशंका होती हैं |

* धनतेरस के दिन कौड़ी खरीद कर घर लाएं और अटूट धन प्राप्ति हेतु दीपावली की रात्रि महालक्ष्मी का षडोषोपचार पूजन कर केसर से रंगी कौड़ियां समर्पित कर पीले कपड़े में बांधकर तिजोरी में रखें।

* घी में कमल गट्टे मिलाकर लक्ष्मी का भोग करने से व्यक्ति राजा जैसा जीवन जीता है। इसके अतिरिक्त 108 कमल गट्टों की माला लक्ष्मी जी पर चढ़ाने से व्यक्ति को स्थिर लक्ष्मी प्राप्त होती है। धन और बरकत के लिए कमल गट्टा की माला घर में रखें।

* शुभ मुहूर्त देखकर बाजार से गांठ वाली पीली हल्दी अथवा काली हल्दी को घर लाएं। इस हल्दी को कोरे कपड़े पर रखकर स्थापित करें तथा षडोशपचार से पूजन करें।

लोक मान्यता के अनुसार धन‌िया, हल्दी, कमल गट्टा, कौड़ी और क्र‌िस्टल नमक को एक लाल रंग के कपड़े में बांधकर पोटली बना लें। लक्ष्मी मंदिर में जाकर इस पोटली का देवी लक्ष्मी के चरणों से स्पर्श करवाकर त‌िजोरी अथवा धन रखने के स्थान पर रखें, घर अथवा कारोबार में कभी भी धन संबंधी परेशानियां नहीं आएंगी।

 

Leave a Reply