Dhantersh subah Puja Muhrat Vidhi Kahani In Hindi

Dhantersh subah Puja Muhrat Vidhi Kahani In Hindi

Dhantersh subah Puja Muhrat Vidhi Kahani In Hindi

Dhantersh subah Puja Muhrat Vidhi Kahani In Hindi

 

धनतेरस पूजा मुहूर्त Dhanteras auspicious worship

धनतरेस तिथि – 28 अक्टूबर 2016

सुबह 09.00 से दोपहर 12.00,
दोपहर 01.30 से 03.00,
शाम 06.00 से रात्रि 09.00 तक।

नतेरस पूजन विधि Dhanteras Puja Vidhi

...

धनतेरस कार्तिक कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को मनाया जाता है. इस दिन नये उपहार, सिक्का, बर्तन व गहनों की खरीदारी करना शुभ माना जाता है. कहा जाता है की धनतेरस के दिन जितनी खरीददारी की जाती है घर उतना ही धन-धान्य से भरता है.

देवता यमराज के पूजन की विधि The Method Worship of Yama

धनतेरस के दिन देवता यमराज की पूजा की जाती है. साल का एक यही दिन है जिस दिन देवता यमराज की पूजा की जाती है. इस दिन रात्रि के समय देवता यमराज के नाम का दीपक जलाया जाता है.

धनतेरस के दिन रात्रि में एक आते का दिया बनाये. अब इस दिये को घर के मुख्य द्वार पर रखें.
रात के समय घर की स्त्रियां दीपक में तेल डालकर नई रूई की बत्ती बनाकर, चार बत्तियां जलाये तथा दीपक की बत्ती दक्षिण दिशा की ओर रखें.
अब जल, रोली, फूल, चावल, गुड़, नैवेद्य आदि सहित दीपक जलाकर स्त्रियां यम का पूजन करें.
दीप जलाते समय पूर्ण श्रद्धा से उन्हें नमन तो करें ही, साथ ही यह भी प्रार्थना करें कि वे आपके परिवार पर दया दृष्टि बनाए रखें और किसी की अकाल मृत्यु न हो.

भगवान कुबेर की पूजन विधि The Method Worship of Kuber

धनतेरस की पूजा सही प्रकार तथा सही विधि में करनी चाहिए. इससे घर में सुख-शांति में अनुभव होता है तथा घर में धन की कमी नही होती. साथ ही इस दिन नये उपहार, सिक्का, बर्तन व गहनों की खरीदारी करना शुभ रहता है. शुभ मुहूर्त समय में पूजन करने के साथ सात धान्यों की पूजा की जाती है.

धनतेरस के दिन पूजा करने के लिए सबसे पहले तेरह दीपक जला कर तिजोरी में कुबेर की पूजा करें.
इसके बाद देव कुबेर को फूल चढाएं.
अब भगवान कुबेर का ध्यान करें और बोलें
कि हे श्रेष्ठ विमान पर विराजमान रहने वाले, गरूडमणि के समान आभावाले, दोनों हाथों में गदा व वर धारण करने वाले, सिर पर श्रेष्ठ मुकुट से अलंकृ्त शरीर वाले, भगवान शिव के प्रिय मित्र देव कुबेर हम आपका ध्यान करते हैं.

इसके बाद भगवान कुबेर का धूप, दीप, नैवैद्ध से पूजन करें और मन्त्र पढ़े.
‘यक्षाय कुबेराय वैश्रवणाय धन-धान्य अधिपतये

धन-धान्य समृद्धि मे देहि दापय स्वाहा ।’

“धनतेरस की कहानी”

पुराने जमाने में एक राजा हुए थे राजा हिम। उनके यहां एक पुत्र हुआ, तो उसकी जन्म-कुंडली बनाई गई। ज्योतिषियों ने कहा कि राजकुमार अपनी शादी के चौथे दिन सांप के काटने से मर जाएगा। इस पर राजा चिंतित रहने लगे। जब राजकुमार की उम्र 16 साल की हुई, तो उसकी शादी एक सुंदर, सुशील और समझदार राजकुमारी से कर दी गई। राजकुमारी मां लक्ष्मी की बड़ी भक्त थीं। राजकुमारी को भी अपने पति पर आने वाली विपत्ति के विषय में पता चल गया।

राजकुमारी काफी दृढ़ इच्छाशक्ति वाली थीं। उसने चौथे दिन का इंतजार पूरी तैयारी के साथ किया। जिस रास्ते से सांप के आने की आशंका थी, वहां सोने-चांदी के सिक्के और हीरे-जवाहरात आदि बिछा दिए गए। पूरे घर को रोशनी से जगमगा दिया गया। कोई भी कोना खाली नहीं छोड़ा गया यानी सांप के आने के लिए कमरे में कोई रास्ता अंधेरा नहीं छोड़ा गया। इतना ही नहीं, राजकुमारी ने अपने पति को जगाए रखने के लिए उसे पहले कहानी सुनाई और फिर गीत गाने लगी।

इसी दौरान जब मृत्यु के देवता यमराज ने सांप का रूप धारण करके कमरे में प्रवेश करने की कोशिश की, तो रोशनी की वजह से उनकी आंखें चुंधिया गईं। इस कारण सांप दूसरा रास्ता खोजने लगा और रेंगते हुए उस जगह पहुंच गया, जहां सोने तथा चांदी के सिक्के रखे हुए थे। डसने का मौका न मिलता देख, विषधर भी वहीं कुंडली लगाकर बैठ गया और राजकुमारी के गाने सुनने लगा। इसी बीच सूर्य देव ने दस्तक दी, यानी सुबह हो गई। यम देवता वापस जा चुके थे। इस तरह राजकुमारी ने अपनी पति को मौत के पंजे में पहुंचने से पहले ही छुड़ा लिया। यह घटना जिस दिन घटी थी, वह धनतेरस का दिन था, इसलिए इस दिन को ‘यमदीपदान’ भी कहते हैं। भक्तजन इसी कारण धनतेरस की पूरी रात रोशनी करते हैं।

 

Most Popular On JobsHint
Dhanteras Puja Vidhi In Hindi धनतेरस पूजा विधि शुभ... Dhanteras Puja Vidhi In Hindi धनतेरस पूजा विधि शुभ महूर्त  महत्व धनतेरस पूजा 2016 धनतेरस पूजा शु...

Leave a Reply