शराबी हिन्दी जोक शायरी

Funny Sharabi joke in hindi Sharabi Shayari शराबी हिन्दी जोक शायरी

Funny Sharabi joke in hindi Sharabi Shayari शराबी  हिन्दी जोक शायरी

शराब हिन्दी जोक शायरी

दो शराबी रात के समय घर लौट रहे थे..
दो शराबी रात के समय घर लौट रहे थे | एक ने अपने हाथ के टॉर्च का उजाला आकाश की और फेंककर कहा – यदि तू इस पगडंडी से ऊपर चढ जाए तो मैं तुझे तीन

हजार रुपये इनाम दूंगा

दूसरा हंसकर बोला – क्या तू मुझे बिलकुल पागल समझता हैं ? मैं आधी दूर चढूंगा , तभी तू बटन बन्द कर देगा |


Zabardast Sharabi joke in two lines

मैथमेटिक्स में हमेशा फ़ैल होने वाले भी….

...

एक क्वार्टर के तीन पेग ऐसे बनाते है जैसे वो किसी लैब में साइंटिस्ट हो!


Sharabiyo ki Daawat – Funny Hindi Chutkula

शराबियों की दावत!

एक शराबी ने दोस्तों के लिए दारु की दावत का प्रोग्राम बनाया,
दारू के बाद दोस्तों ने मटन खाने की इच्छा की ।

पीने के बाद तो सभी शराबी दानवीर करन बन जाते है
तो शराबी ने अपने ही घर से रात को बकरा चोरी किया।

रात को अपने दोस्तों के साथ खूब
दावत का मजा लिया और सुबह जब घर पहुंचा
तो बकरा घर में ही था।

यह देख उसने बीवी से पूछा,
“ये बकरा कहाँ से आया?”

बीवी बोली, “बकरे को मारो गोली,
ये बताओ रात को तुम चोरों की तरह
कुत्ते को कहाँ ले गए थे?”


Aurat ki Baaho mein Gujre pal – Funny Sharaabi Joke

एक मशहूर प्रेरक वक्ता ने
समारोह में कहा –

“मैंने अपनी जिंदगी के सबसे अच्छे
साल उस औरत के बाहों मे गुजारे,
जो मेरी पत्नी नहीं थी …।”

सब एक दम से चुप हो गए।
तब बात आगे बढ़ाते हुए कहा –

“वह औरत मेरी माँ थी” .

सब ने ख़ूब तालियाँ बजाई….

वहाँ मौजूद हमारे एक भाई ने यही कथन
अपने घर में चार पैग लगाने के बाद
आजमाना चाहा….।

किचन में काम कर रही पत्नी के पास जाकर बोला –
“मैंने अपनी जिंदगी के सबसे अच्छे
बरस उस औरत के बाहों मे गुजारे
जो मेरी पत्नी नहीं थी….।”

पर इसके बाद की लाईनें बेचारा
नशे की वजह से भूल गया और बुदबुदाया…

“मुझे याद नहीं आ रही वो औरत कौन थी…”

बाद मे उसे जब होश आया तो वो अस्पताल में था।
बेलन से हाथ, पैर, थोबड़ा, पसली…टूट चुकी थी,
बॉल नोचे हुए थे, उबलते हुए पानी के फेंके जाने
से बुरी तरह झुलस गया था बेचारा


Hindi mein Sharabi Joke – Piyakkad Dost

एक समय की बात है, करंटपुरा नामक कस्बे में दो दोस्त रहा करते थे। पहला जबर्दस्त पियक्कड़ और दूसरा भला इंसान। दूसरा हमेशा पहले को समझाता रहता था।

कुछ समय बाद दूसरा दोस्त कामकाज के सिलसिले में कस्बे से शहर जा पहुंचा। कुछ समय कमाई-धमाई की, फिर वापस गांव लौटा। अपनी नई साइकिल के पैडल मारते हुए सीधे अपने दोस्त के घर पहुँचा। पहला हमेशा की तरह धुत्त मिला।

दूसरे ने पूछा, “और क्या चल रहा है?”

पहला बोला, “कुछ नहीं बस, पी रहे हैं.. जी रहे हैं… तुम सुनाओ।”

दूसरा बोला, “बस, बढ़िया, शहर में कामकाज चल निकला है। साइकिल खरीद ली है, तुम साले सुधर जाओ।”

और पैडल मारते हुए वापस शहर की तरफ निकल लिया।

कुछ दिनों बाद फिर शहर से कस्बे में पहुंचा। इस बार स्कूटर पर था। सीधे दोस्त के घर का रास्ता लिया। वहां फिर वही क्या चल रहा है? वही पी रहे हैं, जी रहे हैं… सुधर जाओ टाइप बातें हुईं। फिर दूसरे ने स्कूटर को किक लगाई और फिर शहर की दिशा में वापस हो लिए।

इस बार दूसरा कुछ महीनों बाद कस्बे में पहुंचा। इस बार कार में था। सीधे दोस्त के घर का रास्ता लिया। पता चला कि वो घर पर नहीं हैं, खेत गया हुआ है। तो दूसरे ने कार सीधे खेत की दिशा मे दौड़ा दी। वहां पहुंचा तो देखता क्या है कि पहला खेत के बीचों-बीच खाट पर बैठ पी रहा है। पास में ही एक हेलिकॉप्टर खड़ा है। दूसरा सीधे अपने दोस्त के पास जा पहुँचा और वही पुरानी बातचीत शुरू हो गई, “और क्या चल रहा है?”

पहला बोला, “बस, कुछ नहीं यार, वही पी रहे हैं, जी रहे हैं… पीते-पीते बोतलें ज्यादा इकट्ठी हो गईं तो बेचकर हेलिकॉप्टर खरीद लिया और पार्किंग के लिए खेत भी खरीद लिया है, और तुम सुनाओ।”

दूसरा वहीं बेहोश हो गया।


Chalaak Buddha aur Sharab ka Bar – Hindi Chutkula

शराब के उस बार के सामने एक छोटा सा तालाब था।

झमाझम बारिश हो रही थी और
उस बारिश में पूरा भीगा हुआ एक बुजुर्ग आदमी एक छड़ी पकड़े था
जिससे बँधा धागा तालाब के पानी में डूबा हुआ था।

एक राहगीर ने उससे पूछा: “क्या कर रहे हो बाबा ?”

बुजुर्ग: “मछली पकड़ रहा हूँ।”

राहगीर बारिश में भीगे उस बुजुर्ग को देख बहुत दुखी हुआ, बोला:
“बाबा, मैं बार में व्हिस्की पीने जा रहा हूँ।
आओ तुम्हें भी एक पैग पिलाता हूँ।
ऐंसे तो तुम्हे सर्दी लग जायेगी। आओ अंदर चलें। ”

बार के गर्म माहौल में बुजुर्ग के साथ व्हिस्की पीते महाशय ने बुजुर्ग से पूछा:
“हाँ तो, बाबा, आज कितनी मछलियाँ फसीं ?”

बुजुर्ग बोला” तुम आठवीं मछली हो, बेटा! “


Daaru wala aur Mahadev

एक बार महादेवजी धरती पर आये ।
चलते चलते उन्हें प्यास लगी ।

सामने दूध वाला मिला ।
दूध माँगा तो उसने जवाब दिया
“ऐसे मुफ्त में दूध नही मिलता”

और…… आगे जाने पर दारू वाला मिला ।
जब दारू मांगी तो उसने कहा ” पी लो जितनी चाहिये..मौज करो।”

महादेवजी प्रसन्न हुए..
और ..उस दारू वाले को वरदान दिया…
दूध वाले को दुध देने घर-घर जाना पड़ेगा … पर ..
दारू वाले को ढूंढते हुए लोग उसके पास जायेंगे… तथास्तु…


दारू पीने वालों के मजेदार झटके…..

🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼

1.एक शराबी दारू पी पी कर मर गया
लेकिन उसकी दारू के प्रति श्रद्धा तो देखो :~
वो मर के भी यह कह गया …
शराब तो ठीक थी !.!
पर मेरा लिवर ही कमज़ोर निकला.

🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼

2.एक शराबी साधू से टकरा गया तो साधू बोला :- “अर मूर्ख, मैं तुझे श्राप देता हूं.”
शराबी -: “बाबाजी रुको, मुझे गिलास ले आने दो।”

🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼

3.उपदेशक :- “अगर गधे को शराब और पानी दोनों पीने को दिये जाये तो गधा क्या पियेगा.”
शराबी :- “जाहिर है पानी पियेगा.”
उपदेशक -: “क्यों ?”
शराबी :- “क्योंकि वो गधा है।”

🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼

4.शराबी को शुद्ध दारू पीता देख अमेरिकन बोला :- “पानी तो मिला लो।”
शराबी :- “हम इंडियन हैं इतना पानी तो दारू देख के ही मुंह में आ जाता है।”

🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼

5.पुलिस (शराबी से) :- “रात के 1 बजे तुम कहां जा रहे हो ?”
शराबी (पुलिस से) :- “मैं शराब पीने के दुष्परिणाम पर भाषण सुनने जा रहा हूं।”
पुलिस (शराबी से) :- “इतनी रात मैं तुम्हे कौन भाषण देगा ?”
शराबी :- “मेरी बीवी।”

🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼

6.एक शराबी एयरपोर्ट के बाहर खड़ा था।
एक वर्दीधारी युवक उधर से गुजरा। शराबी ने उससे कहा :- “एक टैक्सी ले आओ।”
युवक :- “मैं पायलट हूं, टैक्सी ड्राइवर नही।”
शराबी :- “नाराज क्यों होते हो भाई ? तो एक हवाई जहाज ले आओ।”

🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼

7.शराबी :- “गरम क्या है ?”
वेटर :- चाउमीन.
शराबी :- और गरम ?
वेटर :- सूप.
शराबी :- और गरम ?
वेटर :- उबलता पानी.
शराबी :- और गरम ?
वेटर :- आग का गोला है साले.
शराबी :- लेकर आओ, बीड़ी जलानी है.

🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼

8.पंजाबी शादी की पार्टी में डीजे ने पूछा :- कब तक बजाना है ?
मेजबान :- 8-10 पैग तक बजा लो, उसके बाद तो ये सब जनरेटर की आवाज पर भी नाच लेंगें।

🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼

9.शराबी दरवाजे पे दस्तक देता है ? उसकी बीवी दरवाजा खोलती है।
शराबी :-कौन हैं आप?
बीवी :- मुझे भूल गए।
शराबी :- नशा हर गम को भुला देता है बहन.

🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼

10. पियक्कड़ों ने दारू पीके एक टैक्सी रोकी और कहा :- चल।
टैक्सी चालक ने गाड़ी शूरू की
और फिर बंद कर दी.
बोला :- ये लो साब हम पहुँच गए
पहले ने उसे पैसे दे दिए.
दूसरे ने बोला :- धन्यवाद.
तीसरे ने एक थप्पड़ दिया और बोला :- आराम से चलाया कर …
मरवा देता आज.

🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼

11.एक शराबी लेट कर गाने गा रहा था.
2-3 गाने गा कर वो उलटा लेटकर गाने लगा…
दूसरा शराबी :- यार उलटा लेट कर गाने क्यूं गाने लगा।
शराबी :- Pehle साइड A थी अब B बी साइड है।

🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼

12.एक शराबी आंखें दान करने गया, काउंटर क्लर्क ने कहा :- कुछ कहना चाहते हो ?
शराबी :- जिसे लगाओ उसे बता देना कि दो घूंट बाद खुलती है।


Sharabi Shayari

अब के सावन में सबका हिसाब कर दूंगा

अब के सावन में सबका हिसाब कर दूंगा
जिसका जो वाकी है वो भी हिसाब कर दूंगा
और मुझे इस गिलास में ही कैद रख वरना
पूरे शहर का पानी शराब कर दूंगा

—————————————–
दुनिया से ऊब चुका हूं, कुछ और सांस दे दो

दुनिया से ऊब चुका हूं, कुछ और सांस दे दो
ये दिल बड़ा प्यासा है, कुछ और प्यास दे दो

जीने की तमन्ना थी, तुझे पाने की आरजू थी
अब खो चुका हूं सब-कुछ, चंद और ख्वाब दे दो

हर जाम पी गया मैं, ऐ दर्दे-जिंदगानी
फिर भी बड़ा तरसा हूं, कुछ और शराब दे दो

आबाद इस जहान में बर्बाद सा एक मुसाफिर
है चांद थका-थका सा, कुछ और तलाश दे दो
—————————————–
तन्हाई में भी कहते है लोग

तन्हाई में भी कहते है लोग,
जरा महफ़िल में जिया करो.
पैमाना लेके बिठा देते है मैखाने में,
और कहते है जरा तुम कम पिया करो

—————————————
तेरी यादों को अपने सीने से लगा लेता हूँ

तेरी यादों को अपने सीने से लगा लेता हूँ
और शाम होते ही मैं दो जाम लगा लेता हूँ

———————-
नशा हम किया करते है इलज़ाम

नशा हम किया करते है इलज़ाम शराब को दिया करते है…

कसूर शराब का नहीं उनका है जिनका चहेरा हम जाम मै तलाश किया करते है…

—————————–
रख ले 2-4 बोतल कफ़न में

रख ले 2-4 बोतल कफ़न में,
साथ बैठ कर पिया करेंगे,
जब माँगे गा हिसाब गुनाहों का,
एक पेग उससे भी दे दिया करेंगे..

Sharabi Shayari
जो आसानी से मिले वो है गम

जो आसानी से मिले वो है गम,
जो मुश्किल से मिले वो है RUM,
जो किसी किसी से मिले वो है दम,
जो नसीब वालो को मिले वो है हम!!

, Sharabi Shayari
तेरी आँखों से यून तो सागर भी पिए हैं मैने

तेरी आँखों से यून तो सागर भी पिए हैं मैने,
तुझे क्या खबर जुदाई के दिन कैसे जिए हैं मैने…

—————–
शराब चीज़ ही ऐसी हाए ना छोडी जाए

शराब चीज़ ही ऐसी हाए ना छोडी जाए
ये मेरे यार के जैसी हाए ना छोडी जाए

————
हम तो जी रहे थे उनका नाम लेकर

हम तो जी रहे थे उनका नाम लेकर,
वो गुज़रते थे हमारा सलाम लेकर,
कल वो कह गये भुला दो हुमको,
हमने पुछा कैसे!!!!
वो चले गये हाथो मे जाम देकर…

 

Leave a Reply