Kailash Satyarthi Recieved Nobel peace prize

Kailash Satyarthi Recieved Nobel peace prize

भारत के कैलाश सत्यार्थी और पाकिस्तान की मलाला युसूफजई को शांति के नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया

kailash_nobel_pease_jobshint

ओस्लो में भारत के कैलाश सत्यार्थी और पाकिस्तान की मलाला युसूफजई को शांति के नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया। इसके साथ ही नोबेल का मंच दो विरोधी देशों के बीच एकता और आपसी सहयोग का गवाह भी बन गया।

दोनों देशों के शांतिदूतों ने भी पुरस्कार प्राप्त करने के बाद दुनियाभर में शांति का संदेश दिया। नोबेल कमेटी ने भी इस मौके पर विश्व को एकता और शांति का संदेश देने का प्रयास किया जब कार्यक्रम के दौरान विशेष तौर पर आमंत्रित किए गए पाकिस्तानी सूफी गायक राहत फतेह अली खान और प्रख्यात भारतीय सरोदवादक उस्ताद अमजद अली खान ने अपने तरानों से लोगों को भावविभोर कर दिया।

इसके साथ ही सांस थामकर इस लम्हे का इंतजार कर रहे दोनों देशों के लोगों में जश्न की शुरूआत हो गई। पुरस्कार लेने के बाद सत्यार्थी ने अपने संबो‌धन की शुरूआत ”स्वर्ग से भी महान अपनी भारत भूमि को स्मरण करता हूं” कहकर की।

...

इसके बाद उन्होंने ओस्लो के मंच से दुनियाभर को शांति का संदेश देते हुए उपेक्षित और शिक्षा से वंचित बच्चों के अधिकारों के लिए आगे आने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि हम साथ साथ चिंतन करें और साथ मिलकर चलें। कहा हर बच्चे को हर तरह की आजादी मिले, हमारे लिए हर बचपन मायने रखता है।

सत्यार्थी ने इस दौरान वहां मौजूद अतिथियों से बच्चों की आजादी के लिए प्रयास करने का संकल्प भी लिया। इस दौरान उन्होंने पाकिस्तानी बालक इकबाल रशीद की शहादत का भी जिक्र किया।

सत्यार्थी के हर संबोधन पर खचाखच भरे हॉल में जमकर तालियां बजी। इसके बाद उन्होंने संस्कृत के श्लोक असतो मा सदगमय… का उच्चारण कर अपने भाषण का अंत किया। इसके बाद हॉल में मौजूद लोगों ने खड़ृ होकर उनका अभिवादन किया। कार्यक्रम के दौरान पूर्व पाकिस्तानी प्रधानमंत्री और दोनों देशों के राजनीतिक और चर्चित हस्तियां मौजूद रहीं।

Leave a Reply